सदी की खोखली चमक में मट्टो का अमावस ,सिनेमा की खिड़की से बोले लोग। इलाहाबाद से डॉ धीरेन्द्र प्रताप सिंह की खूबसूरत समीक्षा

शेयर करें:

मट्टो की साइकिल’। प्रकाश झा अभिनीत इस फ़िल्म को वही लोग देखें जो इस समय में भी कठकरेज न हुए हों। जो अपने मानस पर हथौड़े सा चोट झेलने का माद्दा रखते हों। वह तो ज़रूर देखें जिनके पास आंख होते भी दृष्टि नहीं है।

यह फ़िल्म एक ऐसे परिवार की कथा है कि जहां रोटी का जुगाड़ और बेटी का विवाह एक चुनौती है। रोटी के जुगाड़ में किसी बीमारी का आ जाना हजार कोड़े के दर्द से भी ज्यादा दर्दनाक है। बावजूद इसके इस परिवार में सभी एक दूसरे के दुःख-सुख के साझेदार हैं। वह परिवार जिसकी आवश्यकताएं बेहद सीमित हैं और सब एक दूसरे का भरपूर ख्याल रखते हैं। इस परिवार में गरीबी और बेबसी तो है लेकिन छोटी-छोटी खुशियों में जैसा उल्लास है, वैसा उल्लास बड़े-बड़े अमीरजादों के यहां नहीं दिखता।

यह फ़िल्म समग्रता में कोई सुखांत या दुखांत नाटक नहीं बल्कि इसका हर दृश्य एक कहानी है, जिसमें कसक है, पीड़ा है, चोट है। वह चोट हृदय को बेधती है। इस चोट में हर किसी को अपना चोर चेहरा दिख जायेगा। चाहे मजदूरी गड़प कर जाने वाली बात हो या किसी की मजबूरी देखकर सूदखोरी की अत्यधिक लोलुपता हो या संभव होते हुए भी अपने ही गांव, पड़ोस या परिवार में रहने वाले एक विवश व्यक्ति को सहयोग न कर पाने का भाव हो।

इस फ़िल्म में इक्कीसवीं सदी का वह गांव है, जिसमें गांव की सड़कें टूटी हैं और टूटे लोग और टूटे हैं। देश का विकास, गांव के विकास से और गांव का विकास खेती की ज़मीन की कुर्बानी से ही संभव होता दिखता है। एक्सप्रेस वे के रुपए से गांवों की युवा पीढ़ी कारोबारी बनने के ख़्वाब में शराब और स्मार्टफोन की दुनिया में जिस तरह डूबती उतराती है, यह फ़िल्म उस ओर भी इशारा करती है। उन किशोर युवाओं को भी दिखाती है, जो प्रेम के नाम पर भीतर से बेहद कायर, अकर्मण्य और घटिया मानसिकता से ग्रस्त हैं।

मट्टो की साइकिल राजनीतिक नारों और भाषणों में दिखने वाली साइकिल की तरह सौभाग्यशाली नहीं है। दूसरी ओर मट्टो के गांव का प्रधान उम्मीदवार एक रिटायर्ड फ़ौजी रहता है। चुनाव प्रचार में गांव के विकास का नारा अपने सैनिक होने की ईमानदारी की चासनी में ऐसा फेंटता है कि मट्टो का भी वोट ले लेता है और चुनाव जीतते ही पहले घर, फिर बुलेट, फिर बड़ी गाड़ी लेता है। वह मट्टो की एक अदद साइकिल टूट जाने और बड़ी मुश्किल से ली गई दूसरी साइकिल चोरी हो जाने पर भी कोई मदद नहीं करता, जबकि वही साइकिल उसकी रोजी रोजगार का जरिया होती है।

हालांकि, मट्टो ज़िंदगी की उस ज़मीर में विश्वास रखता है, जिसे हमारे शहर के प्रख्यात गीतकार यश मालवीय गाते हैं,
समय की मार सह लेना/ नहीं रूकना मेरे साथी//…

फिल्म का हर दृश्य इतना बेजोड़, जीवंत, मौलिक तथा प्रकाश झा का अभिनय इतना सशक्त है कि मानो हर दृश्य कोई नगाड़ा हो और मट्टू पाल की भूमिका में प्रकाश झा उसे पूरी शिद्दत से बजा रहें हों। इस फ़िल्म को लेकर प्रकाश झा ने ख़ुद कहा है,

“मैं एक आदमी और उसकी साइकिल की इस सरल कहानी में परतें देख सकता था, जहां एक एक्सप्रेस-वे का निर्माण किया गया है, लेकिन उस एक्सप्रेस-वे के नीचे जीवन एक घोंघे की गति से चलता है। जहां खुश रहने के लिए लोग छोटी-छोटी चीज़ें तलाशते हैं। उनके जीवन में कोई क्रांति, कोई आंदोलन नहीं है। मुझे लगा कि यह फिल्म बननी ही चाहिए”.

प्रकाश झा ने एक बार फिर पूरे साहस के साथ उस विषय को उठाया है, जिसे फिल्मी दुनिया का बड़ा तबका अछूत मानता है या उससे कन्नी काट लेता है। इस फिल्म को मल्टीप्लेक्स में न्यूनतम शुल्क ₹75 में उपलब्ध कराने के लिए भी फिल्म के वित्तीय मामलों से जुड़े लोगों और प्रकाश झा जी का बहुत धन्यवाद।

यह फिल्म बड़ी ही साफ़गोई से मानवीय मूल्यों को जाग्रत करती है और सच्चे मनुष्य होने के अहसास को उद्वेलित करती है।

(डॉ.धीरेंद्र प्रताप सिंह,इलाहाबाद विश्विद्यालय से पी.एच.डी. किये हुए हैं। भूमंडलीकरण व सम सामयिक विषयों पर लिखते हैं और वर्तमान में सीनियर रिसर्च फेलोशिप के अंतर्गत भोजपुरी लोकगीतों पर काम कर रहे)

यह फिल्म समीक्षा लेखक के अपने विचार हैं ……….

Stay tuned to The Filmy Charcha for the latest Update on Films, Television Gossips, Movies Review, Box Office Collection from Bollywood, South, TV & Web Series. Click to join us on Facebook, Twitter, Youtube and Instagram.

Recent Post

‘पोनीयन सेलवन देखनी है तो होमवर्क करके जाएँ!’ कवयित्री संध्या नवोदिता की नज़र से ‘PS-1’

‘पोनीयन सेलवन देखनी है तो होमवर्क करके जाएँ!’ कवयित्री संध्या नवोदिता की नज़र से ‘PS-1’

मुंबई:- मणि रत्नम की फ़िल्म पोनियन सेलवन इस समय कमाई के मामले में सबसे आगे है। फ़िल्म ने इस साल की सभी फिल्मों को पीछे छोड़ दिया है। फ़िल्म के लिए काफ़ी सकारात्मक टिप्पड़ियां लिखी जा रही हैं। ऐसी ही...

विक्रम बेताल जैसी उलझी कहानी तो नहीं विक्रम वेधा ? कल होगी सिनेमाघरों में रिलीज 

विक्रम वेधा की कमाई पड़ी ढीली, अभी तक सौ करोड़ का आंकड़ा भी नही छू पाई

ऋतिक रोशन- सैफ अली खान स्टारर विक्रम वेधा के चौथे दिन का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन सामने आ गया है जो निराशाजनक है। फिल्म का कलेक्शन अगर ऐसा ही रहा तो विक्रम वेधा के लिए 100 करोड़ क्लब को छूना मुश्किल...

शादी के बन्धन में बंध गए अली फ़ज़ल और ऋचा चड्ढा

शादी के बन्धन में बंध गए अली फ़ज़ल और ऋचा चड्ढा

कई सालों बाद ऋचा और अली फ़ज़ल का प्रेम आज शादी के बंधन में बंध गया। ऋचा चड्ढा ने शादी की तस्वीरों को सांझा करते हुए लिखा है कि आखिर में वो दोनों एक दूसरे के हो गए। क्रीम कलर...

गांधी जयंती पर डॉ कृष्णा चौहान ने किया ‘महात्मा गांधी रत्न सम्मान 2022’ का आयोजन

गांधी जयंती पर डॉ कृष्णा चौहान ने किया ‘महात्मा गांधी रत्न सम्मान 2022’ का आयोजन

मुम्बई: प्रतिवर्ष 2 अक्टूबर को भारत देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्मदिवस मनाया जाता है। इस दिन बापू की स्मृति में राजनीतिक दलों सहित कई सामाजिक संस्थाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। ऐसी ही...

न बजट में कम,न ही दृश्य में कमज़ोर और लेखन तो लाजवाब है ही, पोनियन सेलवन-1 हो सकता है इस साल का सबसे मज़बूत सिनेमा

गुरु-शिष्या की जोड़ी लगातार मचा रही धमाल,तीसरे दिन भी बम्फर कमाई की PS -1 

 मुंबई ;  ऐश्वर्या राय बच्चन की फिल्म पोन्नियिन सेल्वन रिलीज के पहले ही दिन से बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रही है. पहले दो दिन फिल्म ने धुआंधार कमाई करने के बाद रिलीज के तीसरे दिन रविवार को भी बॉक्स...

उर्मिला मातोंडकर  ‘तिवारी ‘ से रखेंगी वेब सीरीज की दुनिया में कदम, पोस्टर जारी 

उर्मिला मातोंडकर ‘तिवारी ‘ से रखेंगी वेब सीरीज की दुनिया में कदम, पोस्टर जारी 

फिल्म विश्लेषक  तरण आदर्श ने इंस्टाग्राम पर उर्मिला मतोड़कर की आने वाली डेब्यू वेब सीरीज  का पहला पोस्टर ट्वीट किया। ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा   "उर्मिला मातोडकर ने वेब सीरीज "तिवारी" के साथ ऑनलाइन डेब्यू किया। जो सत्या, एक हसीना...

Ayodhya will exhibit a 50 feet tall poster of Adipurush!

आदिपुरुष का टीज़र आते ही दर्शकों में दिखी नाराजगी ,बोले VFX के चक्कर में सब नाश कर दिया 

मुंबई ; - काफी दिनों से चर्चा में चल रही टी सीरीज की फिल्म आदिपुरुष का टीज़र कल अयोध्या में लांच कर दिया गया। अभिनेता प्रभास और कृति सेनन कल अयोध्या पहुचें और वहां उन दोनों ने मंदिर में दर्शन...

अक्षय कुमार की फिल्म ‘सम्राट पृथ्वीराज’ का वर्ल्ड टेलीविज़न प्रीमियर! अक्षय कुमार और मानुषी छिल्लर ने कही ये खास बात !

अक्षय कुमार की फिल्म ‘सम्राट पृथ्वीराज’ का वर्ल्ड टेलीविज़न प्रीमियर! अक्षय कुमार और मानुषी छिल्लर ने कही ये खास बात !

सम्राट पृथ्वीराज यशराज फिल्म्स की पहली ऐतिहासिक फिल्म है, जो महाकाव्य पृथ्वीराज रासो से प्रेरित है, जो वीर शासक सम्राट पृथ्वीराज चौहान के जीवन पर आधारित है और 12 वीं शताब्दी में भारत की एक झलक है। अक्षय कुमार, मानुषी...