Matto ki Saikil Review लोकतंत्र के सामने एक गहरा प्रश्न छोड़ गया ‘मट्टो’ और बयां कर गया गरीबी,बेबसी और लाचारी में जीते समाज की कहानी

शेयर करें:

मट्टो की साइकिल फ़िल्म आज रिलीज हो गयी। सिनेमाघरों में लोग जब फ़िल्म देखकर निकल रहे तो किसी की ज़बान पर गांव-देहात है तो कोई कह रहा कि वो जब गांव जाते हैं तो ऐसे दृश्य देखने को मिलते हैं। कुछ लोग तो भावुक भी थे। जिनकी खूबसूरत प्रतिक्रियाएं ये बता रही थी कि फ़िल्म की कहानी और दृश्यों की ताकत क्या है। प्रकाश झा को देखकर ज्यादा दर्शक अचंभे में हैं। उनका कहना है कि ये तो सब एक्टर्स पर भारी पड़ गया है। बड़े बजट की फिल्मों के आगे इस तरह की प्रतिक्रियाओं का मिलना किसी फिल्म के लिए उसकी दूरगामी सोच व सामाजिक सरोकारों से जुड़े रहना दिखाता है। मट्टो की साइकिल की यही असली कमाई है,जो दर्शकों की आंखें नम कर दे रही।

क्या है फ़िल्म की कहानी,आइये जानते हैं-

मट्टो (प्रकाश झा) नाम का एक गरीब मज़दूर,उसकी पत्नी( अनिता चौधरी) व दो बेटियों नीरज(आरोही शर्मा) व लिम्का की कहानी। गांव में रहकर जीवन बसर कर रहा यह परिवार रोज की कमाई पर निर्भर है। भारत की ज्यादातर आबादी ऐसी हो है जो रोज की कमाई पर ही अपना जीवन यापन करती है। बेटी सरोज मोतियों की माला बनाने का काम करती है और मट्टो रोज दिहाड़ी मज़दूरी करने बाहर। एक ठेकेदार है,जो मट्टो को काम दिलाता रहता है। मट्टो के पास उसकी एक टूटी-जर्जर साइकिल है,जिसमे रोज कुछ न कुछ खराबी ही रहती है। फिर भी मट्टो का वही एकमात्र सहारा है। सपना है कि दिहाड़ी मज़दूरी ठीक ठाक मिले तो एक साइकिल ले लेगा। मगर क्या करे,कितना कमाए कितना बचाये। जो मिलता है,उसमे राशन पानी का खर्च और ऊपर से कर्ज चुकता करना अलग। मट्टो का ही दोस्त है कल्लू मिस्त्री( डिंपी मिश्रा),जो मट्टो की साइकिल को ठीक करता रहता है। कभी कभार तो मट्टो खुद ही छोटी मोटी खराबी ठीक कर लेता है। उसे लगता है कि कब तक फ्री में काम कराएंगे,मगर कल्लू उसकी बेबसी को समझता है। कभी साइकिल की चेन खराब तो कभी स्टैंड,कभी चक्का डग तो कभी हैंडल खराब। मट्टो का जीवन भी तो ऐसा ही है,बिल्कुल उसकी साइकिल की तरह। बेटी ब्याहने लायक हो रही,उसकी चिंता अलग। पत्नी बीमार पड़ गयी तो अलग। कुल मिलाकर उसकी बेबसी,लाचारी और गरीबी की मार के चलते वह अपना आर्थिक सन्तुलन नही बना पाता। एक दिन मज़दूरी से लौटते समय उसकी साइकिल पर ट्रैक्टर चढ़ जाता है। मानों मट्टो पर पहाड़ सा टूट गया। वह चिल्लाता है,रोता है,भागता है मगर क्या करे। वो ट्रैक्टर और ये साइकिल। पल भर के लिए ऐसा लगता है कि सब कुछ ठहर सा गया हो। यही पर फ़िल्म का इंटरवल हो जाता है। आगे के आधे भाग में मट्टो सपने में नई साइकिल का सपना देख रहा होता है। और उसी सपने को पूरा करने के लिए वो कल्लू की मदद से उधार एक साइकिल लेता है। कुछ पैसा उसके पास जमा पूंजी और कुछ नीरज की मोतियों की माला से मिले पैसे को इकट्ठा कर। साइकिल घर मे आने से उसका घर मंदिर सा लगने लगा था। लिम्का साइकिल की घण्टी बजाकर खुश होती। घण्टी की आवाज मानों मंदिर में बज रही मधुर घण्टियों की आवाज सी लगती।
गांव में प्रधानी का चुनाव होता है और सिकन्दर चौधरी चुनाव जीत जाते है। चुनाव से पहले सिकन्दर के लिए मट्टो बड़ा प्रिय रहता है। उसे प्रधान से काफी उम्मीदें रहती हैं। मगर एक दिन दिहाड़ी से लौटते वक्त उसकी साइकिल को चोर छीन लेते हैं। मट्टो उनसे बहुत जूझता है मगर कुक नही होता। वह चिल्लाते हुए एक पुलिस के पास जाता है,मगर वहां भी निराशा हाथ लगती है। पुलिस वाहन चेकिंग को छोड़कर उसकी साइकिल ढूंढना मुनासिब नही समझती। वह एफ आई आर के लिए पोलिस स्टेशन जाता है मगर वहां से भी दुत्कार दिया जाता है। एरोप्लेन,कार और मोटरसाइकिल के दौर में मट्टो की साइकिल कहां ठहरती है? जनसमस्या के निदान के लिए बने प्रधान जी आगरा से लौटे हैं,और साथ मे बड़ी कार ख़रीद कर लाये हैं। वही आखिरी उम्मीद थे मट्टो के लिए। गाड़ी की पूजा हो रही होती है। मट्टो पूजा के बीच मे ही रोते हुए प्रधान से अपनी साइकिल के चोरी होने की बात बताता है। मगर ये क्या,प्रधान का आदमी मट्टो को धक्का देकर गिरा देता है। मट्टो के गिरते ही मानों लोकतंत्र और संविधान औंधे मुंह गिर गया हो। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बच्चे हाथों में तिरंगा लिए गीत गाते जा रहे – सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा। कल्लू और नीरज के कंधों पर सहारा लिए मट्टो उनके बगल से जा रहा होता है। जिसके चेहरे पर साफ झलक रही थी- टूटी उम्मीद,अधूरा सपना और झूठी मिली दिलासा।

एम.गनी जिन्होंने निर्देशन से भरी फ़िल्म में जान…


यह कहानी मथुरा के रहने वाले रंगकर्मी व फिल्ममेकर एम.गनी ने लिखी थी। उनको कई साल लग गए इस फ़िल्म को एक मुकम्मल पहचान देने में। जब प्रकाश झा ने यह कहानी सुनी तो तुरंत तैयार हो गए। दमदार निर्देशन के लिए जाने जाने वाले प्रकाश झा ने इसमें अभिनय की जो छाप छोड़ी है कि देखकर दर्शक भी अचंभित है। इसके सम्वाद लिखे हैं पुलकित फिलिप ने और सम्पादन किया है कामेश कर्ण ने। प्रकाश झा प्रोडूक्शन से रिलीज हुई यह फ़िल्म पहले अपने ट्रेलर से ही काफी सुर्खियों में आ गयी थी।

थिएटर से जुड़े रंगकर्मियों ने छोड़ी अमिट छाप..

अनिता चौधरी( मट्टो की पत्नी), डिंपी मिश्रा (मट्टो का दोस्त कल्लू), आरोही शर्मा (मट्टो की बड़ी बेटी नीरज) ने बड़े ही भावनात्मक तरीके से अभिनय किया,जो हृदय को छू लेने वाला है।

सम्वाद और दृश्य ऐसे हैं कि आप एक पल के लिए भी नज़र नही हटा सकते। आपको कुछ भी बनावटी या शूटिंग जैसा नही लगेगा,ऐसा लगेगा जैसे उन दृश्यों मे आप भी कहीं न कहीं हैं और सब आस पास घटते देख रहे हैं।

यह फ़िल्म सामाजिक व राजनीतिक पहलुओं को छूती दिखती है। लोकतंत्र की ताकत तो गांव हैं फिर ये गांव विकास की मुख्य धारा से नदारद क्यों। फ़िल्म को देखकर लगेगा कि भारत की आत्मा भले गांव हों,मगर यह आत्मा दुखी है। उच्च व निम्न के मध्य एक खाई,जो लगातार बढ़ती जा रही। मट्टो जैसे लोग,व्यवस्था में सिर्फ वोटबैंक हैं बाकी कुछ नही। वो जी रहे है तो बस एक झूठी उम्मीद के सहारे…

रिपोर्ट- विवेक रंजन

Stay tuned to The Filmy Charcha for the latest Update on Films, Television Gossips, Movies Review, Box Office Collection from Bollywood, South, TV & Web Series. Click to join us on Facebook, Twitter, Youtube and Instagram.

Recent Post

‘पोनीयन सेलवन देखनी है तो होमवर्क करके जाएँ!’ कवयित्री संध्या नवोदिता की नज़र से ‘PS-1’

‘पोनीयन सेलवन देखनी है तो होमवर्क करके जाएँ!’ कवयित्री संध्या नवोदिता की नज़र से ‘PS-1’

मुंबई:- मणि रत्नम की फ़िल्म पोनियन सेलवन इस समय कमाई के मामले में सबसे आगे है। फ़िल्म ने इस साल की सभी फिल्मों को पीछे छोड़ दिया है। फ़िल्म के लिए काफ़ी सकारात्मक टिप्पड़ियां लिखी जा रही हैं। ऐसी ही...

विक्रम बेताल जैसी उलझी कहानी तो नहीं विक्रम वेधा ? कल होगी सिनेमाघरों में रिलीज 

विक्रम वेधा की कमाई पड़ी ढीली, अभी तक सौ करोड़ का आंकड़ा भी नही छू पाई

ऋतिक रोशन- सैफ अली खान स्टारर विक्रम वेधा के चौथे दिन का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन सामने आ गया है जो निराशाजनक है। फिल्म का कलेक्शन अगर ऐसा ही रहा तो विक्रम वेधा के लिए 100 करोड़ क्लब को छूना मुश्किल...

शादी के बन्धन में बंध गए अली फ़ज़ल और ऋचा चड्ढा

शादी के बन्धन में बंध गए अली फ़ज़ल और ऋचा चड्ढा

कई सालों बाद ऋचा और अली फ़ज़ल का प्रेम आज शादी के बंधन में बंध गया। ऋचा चड्ढा ने शादी की तस्वीरों को सांझा करते हुए लिखा है कि आखिर में वो दोनों एक दूसरे के हो गए। क्रीम कलर...

गांधी जयंती पर डॉ कृष्णा चौहान ने किया ‘महात्मा गांधी रत्न सम्मान 2022’ का आयोजन

गांधी जयंती पर डॉ कृष्णा चौहान ने किया ‘महात्मा गांधी रत्न सम्मान 2022’ का आयोजन

मुम्बई: प्रतिवर्ष 2 अक्टूबर को भारत देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्मदिवस मनाया जाता है। इस दिन बापू की स्मृति में राजनीतिक दलों सहित कई सामाजिक संस्थाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। ऐसी ही...

न बजट में कम,न ही दृश्य में कमज़ोर और लेखन तो लाजवाब है ही, पोनियन सेलवन-1 हो सकता है इस साल का सबसे मज़बूत सिनेमा

गुरु-शिष्या की जोड़ी लगातार मचा रही धमाल,तीसरे दिन भी बम्फर कमाई की PS -1 

 मुंबई ;  ऐश्वर्या राय बच्चन की फिल्म पोन्नियिन सेल्वन रिलीज के पहले ही दिन से बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रही है. पहले दो दिन फिल्म ने धुआंधार कमाई करने के बाद रिलीज के तीसरे दिन रविवार को भी बॉक्स...

उर्मिला मातोंडकर  ‘तिवारी ‘ से रखेंगी वेब सीरीज की दुनिया में कदम, पोस्टर जारी 

उर्मिला मातोंडकर ‘तिवारी ‘ से रखेंगी वेब सीरीज की दुनिया में कदम, पोस्टर जारी 

फिल्म विश्लेषक  तरण आदर्श ने इंस्टाग्राम पर उर्मिला मतोड़कर की आने वाली डेब्यू वेब सीरीज  का पहला पोस्टर ट्वीट किया। ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा   "उर्मिला मातोडकर ने वेब सीरीज "तिवारी" के साथ ऑनलाइन डेब्यू किया। जो सत्या, एक हसीना...

Ayodhya will exhibit a 50 feet tall poster of Adipurush!

आदिपुरुष का टीज़र आते ही दर्शकों में दिखी नाराजगी ,बोले VFX के चक्कर में सब नाश कर दिया 

मुंबई ; - काफी दिनों से चर्चा में चल रही टी सीरीज की फिल्म आदिपुरुष का टीज़र कल अयोध्या में लांच कर दिया गया। अभिनेता प्रभास और कृति सेनन कल अयोध्या पहुचें और वहां उन दोनों ने मंदिर में दर्शन...

अक्षय कुमार की फिल्म ‘सम्राट पृथ्वीराज’ का वर्ल्ड टेलीविज़न प्रीमियर! अक्षय कुमार और मानुषी छिल्लर ने कही ये खास बात !

अक्षय कुमार की फिल्म ‘सम्राट पृथ्वीराज’ का वर्ल्ड टेलीविज़न प्रीमियर! अक्षय कुमार और मानुषी छिल्लर ने कही ये खास बात !

सम्राट पृथ्वीराज यशराज फिल्म्स की पहली ऐतिहासिक फिल्म है, जो महाकाव्य पृथ्वीराज रासो से प्रेरित है, जो वीर शासक सम्राट पृथ्वीराज चौहान के जीवन पर आधारित है और 12 वीं शताब्दी में भारत की एक झलक है। अक्षय कुमार, मानुषी...