आश्रम की अपार सफलता के बाद प्रकाश झा अब निकल पड़े हैं “मट्टो की सायकल” की सवारी पर!

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on email
Email

आश्रम श्रृंखला में अपने दमदार निर्देशन का परचम लहरा चुके डायरेक्टर प्रकाश झा अब मथुरा के एक गाँव की गलियों में जीवन की एक अनोखी दास्तान को बयां कर रहे हैं। एक ऐसा जीवन जहां सांसे तो चल रही हैं लेकिन हर पल वह अपनी उलझी जिंदगी से अपने जीने की कीमत मांगती हैं।

हालात के आगे घुटने न टेकते मट्टो के हौसले बुलंद हैं जो सायकल की सिसकन के सामने भी चट्टान की तरह खड़े हैं । जहाँ एक सायकल और एक आम आदमी की खास कहानी है जो आपको जिंदगी और उसे गुज़र बसर करने की जद्दोजहद की याद दिलाएगी।

Also read this  ज़ी5 की सीरीज़ 'अभय 2' के दमदार एक्शन सीक्वेंस के लिए कुणाल खेमू ने नहीं ली कोई विशेष ट्रेनिंग!

फ़िल्म मट्टो की साइकल जिसमे पहली बार प्रकाश झा एक टाइटल और दमदार किरदार में दिखाई दे रहे हैं । जो हाल ही में बुसान अंतराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में दिखाई गई और पसंद भी की गई ।

मथुरा निवासी निर्देशक एम गनी ने 92 मिनट की इस पहली फीचर फिल्म में अपने पिता के कहानी को पिरोया हैं। मट्टो बने प्रकाश झा के उम्दा अभिनय पर एम गानी कहते हैं कि “प्रकाश झा ने वास्तव में मट्टो की भूमिका निभाने का अथक प्रयास किया ।वे गाँव में और मजदूरों के साथ रहे। वह हमारी बेतहाशा अपेक्षाओं के भी परे हैं”।

Also read this  अली फज़ल ने महाराष्ट्र गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी द्वारा राजभवन में आयोजित COVID योद्धाओं के सत्कार में शामिल हुए

मट्टो की साईकिल में काम करने के अपने अनुभव के बारे में प्रकाश झा कहते हैं – “मैं एक आदमी और उसकी साइकिल की इस सरल कहानी में परतें देख सकता था, जहा एक एक्सप्रेसवे का निर्माण किया गया है, लेकिन उस एक्सप्रेसवे के नीचे जीवन एक घोंघे की गति से चलता है। जहाँ खुश रहने के लिए लोग छोटी-छोटी चीज़ें तलाशते हैं – जहाँ उनके जीवन में कोई क्रांति, कोई आंदोलन नहीं है। मुझे लगा कि यह फिल्म बननी ही चाहिए” ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CELEBRITY BYTE

Related Posts